शीश के दानी

जय श्री श्याम बाबा

Khatushyamji’s temple, constructed of the famous Makrana marble, is in the heart of the town. Grand Son of Mahabharata Pandav Bhim’s and son of Ghatotkach.
View More

!! शीश के दानी श्री श्याम बाबा का जीवन सार !!

हिन्दू धर्म के अनुसार, खाटू श्याम जी कलियुग में श्री कृष्ण से वरदान प्राप्त किया था कि वे कलयुग में उनके नाम श्याम से पूजे जाएँगे। श्री कृष्ण बर्बरीक के महान बलिदान से काफ़ी प्रसन्न हुए और वरदान दिया कि जैसे-जैसे कलियुग का अवतरण होगा, तुम श्याम के नाम से पूजे जाओगे। तुम्हारे भक्तों का केवल तुम्हारे नाम का सच्चे दिल से उच्चारण मात्र से ही उद्धार होगा। यदि वे तुम्हारी सच्चे मन और प्रेम-भाव से पूजा करेंगे तो उनकी सभी मनोकामना पूर्ण होगी और सभी कार्य सफ़ल होंगे। श्री श्याम बाबा की अपूर्व कहानी मध्यकालीन महाभारत से आरम्भ होती है। वे पहले बर्बरीक के नाम से जाने जाते थे। वे अति बलशाली गदाधारी भीम के पुत्र घटोत्कच और दैत्य मूर की पुत्री मोरवी के पुत्र हैं। बाल्यकाल से ही वे बहुत वीर और महान योद्धा थे। उन्होंने युद्ध कला अपनी माँ तथा श्री कृष्ण से सीखी। नव दुर्गा की घोर तपस्या करके उन्हें प्रसन्न किया और तीन अमोघ बाण प्राप्त किये; इस प्रकार तीन बाणधारी के नाम से प्रसिद्ध नाम प्राप्त किया। अग्निदेव प्रसन्न होकर उन्हें धनुष प्रदान किया, जो उन्हें तीनों लोकों में विजयी बनाने में समर्थ थे।

Gallery

June 16, 2019

Shayani Ekadashi

Devshayani Ekadashi Shayani Ekadashi or Maha-ekadashi or Prathama-ekadashi or Padma Ekadashi or Devshayani Ekadashi or Devpodhi Ekadashi is the eleventh lunar day (Ekadashi) of the bright fortnight (Shukla paksha) of the Hindu month of Ashadha (June – July). Thus it is also known as Ashadhi Ekadashi or Ashadhi.It is known as Toli Ekadashi in Telugu.This […]

May 29, 2019

Jaipur to Khatu shyam ji Mandir

Via Road Best route is via Sawai Jai Singh Hwy to Jaipur Roadd/Sikar Road to Agra – Bikaner Road(also known as NH11), which will take you to MDR46, Khatu bus stand. Here is the google map from Jaipur to Khatu shyam mandir. There are various Government as well as private buses available from Jaipur Bus […]